राम मंदिर, गौहत्या और लव जिहाद के जरिए योगी ने पश्चिम बंगाल में दिया सियासी संदेश

मश्चिम बंगाल। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ अपनी पहली रैली के जरिए पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव का एजेंडा सेट करने में जुट गए. बंगाल की सियासी पिच पर उतरते ही योगी आदित्यनाथ ‘जय श्रीराम’ के उद्घोष के साथ हिंदुत्व के मुद्दे को धार देने की कवायद करते नजर आए. उन्होंने लव जिहाद, गोहत्या और राम मंदिर जैसे मुद्दों को उठाकर बीजेपी के पक्ष में माहौल बनाने की रणनीति अपनाई.

लव जिहाद का उठाया मुद्दा पश्चिम बंगाल के चुनाव में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ममता बनर्जी और टीएमसी पर जमकर बरसे. योगी ने कहा कि यहां छल और धोखे से लव जिहाद की घटनाओं को भी अंजाम दिया जा रहा है. तुष्टिकरण के चलते यहां की सरकार न तो गोतस्करी को रोक पा रही है और न ही लव जिहाद पर रोक लगा पा रही है. लव जिहाद को अगर नहीं रोका गया तो आने वाले समय में खतरनाक होगा. ऐसे में जो सरकार आपको सुरक्षा नहीं दे सकती, उस सरकार को हटाना ही जनता के हित में है.

यूपी के सीएम ने कहा, ‘पश्चिम बंगाल हमेशा से भारत में सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की धरती रहा है. भारत की आजादी में इस सांस्कृतिक धरा का अहम योगदान था. आज यह बात दुख पहुंचाती है कि यहां अराजकता का माहौल है. मैं यूपी से आया हूं और मैंने वहां कुछ चीजें इस तरह से की हैं, जिससे बड़ा बदलाव आया है. गोहत्या और लव जिहाद के खिलाफ हमने शख्त कदम उठाए हैं.

गौहत्या का उठाया मुद्दा हिंदुत्व के मुद्दे को धार देते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हम 2017 में यूपी में सत्ता में आए और तुरंत ही स्लॉटर हाउसेज पर रोक लगाई. सरकार बनने के 24 घंटे के अंदर गोतस्करी और गोहत्या पर तत्काल रोक लगाई थी. यूपी में कोई भी गौहत्या नहीं कर सकता है, ऐसे में पश्चिम बंगाल में भी सरकार बनेगी तो यही होगा. ममता बनर्जी वोट के खातिर न तो गौहत्या पर रोक लगा रही हैं और न ही गैर कानूनी तरह से चल रहे स्लॉटर बंद कर रही हैं.

उन्होंने कहा कि यहां जब दुर्गा पूजा की बात आई तो ममता सरकार ने पूजा पर तो रोक लगा दी, लेकिन मुहर्रम के जुलूसों को अनुमति दी गई. पश्चिम बंगाल में भावनाओं से खिलवाड़ किया जाता है और पूजा पर रोक लगाई जाती है,

राम मंदिर के बहाने कोठारी बंधु का जिक्र सीएम योगी ने अपने भाषण की शुरुआत जय श्रीराम के साथ करते हुए कहा कि अयोध्या में भगवान राम का भव्य मंदिर बना रहा. देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5 अगस्त को मंदिर का भव्य शिलान्यास कर दिया है, जिसके बाद काम तेजी से चल रहा है. इस दौरान कोठारी बंधुओं की याद दिलाते हुए योगी ने कहा कि राम मंदिर के लिए यहीं के कोठारी बंधु थे जिन्होंने अपनी जान गंवाई थी. बाबरी ढांचे पर चढ़कर कोठारी बंधुओं ने भगवा झंडा फहराया था, लेकिन आज उनका सपना साकार हो रहा है.

बता दें कि राम कोठारी और शरद कोठारी दोनों भाइयों ने 1990 में अयोध्या कारसेवा के लिए पहुंचे थे, लेकिन पुलिस फायरिंग में उनकी जान चली गई थी. कोठारी बंधु पश्चिम बंगाल के रहने वाले थे. यही वजह रही कि सीएम योगी ने राम मंदिर के बहाने कोठारी बुंधुओं का जिक्र कर पश्चिम बंगाल को सियासी संदेश देने की कोशिश करते दिखे. साथ ही उन्होंने सीएए का मुद्दा उठाया और कहा कि सीएए कानून के जरिए मोदी सरकार पकिस्तान, बंग्लादेश, अफगानिस्तान के प्रताड़ित हिंदू, सिख, बौद्ध और ईसाई समुदाय को नागरिकता देने का फैसला किया तो ममता सरकार को दुख हुआ है जबकि घुसपैठियों से उन्हें परेशानी नहीं है.

370 के बहाने श्यामा प्रसाद मुखर्जी का जिक्र सीएम योगी आदित्यनाथ ने पश्चिम बंगाल के दिग्गज नेता रहे श्यामा प्रसाद मुखर्जी का भी जिक्र किया. जनसंघ के नेता रहे मुखर्जी के बारे में बताते हुए योगी ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाकर उनके सपने को पूरा करने का काम किया है. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लोग कहते थे कि धारा 370 को हटाने से खून की नदियां बह जाएंगी. हमने इस भेदभावकारी प्रावधान को हटाकर कश्मीर को शेष भारत के जैसा ही बना दिया और सबकुछ शांति से हो गया. कुछ लोगों को जरूर कश्मीर से धारा 370 हटाने पर बहुत पीड़ा हुई. देश में एकमात्र नारा ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ है.

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,929FansLike
2,754FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles