आध्यात्मिक रूप से सुदृढ़ और स्वस्थ व्यक्ति को ईश्वरीय शक्ति का संबल निरंतर उपलब्ध रहता है – स्वामी अवधेशानंद गिरि

हरिद्वार। पूज्य “सद्गुरुदेव” जी ने कहा – “शरीरमाद्यं खलु धर्मसाधनम् ..!” स्वस्थ शरीर में ही छिपा है – सार्थक जीवन का रहस्य। एक स्वस्थ जीवनशैली का पालन करना महत्वपूर्ण है ! अच्छा स्वास्थ्य एक शांतिपूर्ण, आनन्दमय जीवन की आवश्यकता है। एक अनुशासित, प्राकृतिक और संतुलित जीवनशैली अच्छे स्वास्थ्य की कुंजी है ..! मनुष्य रूप में जीवात्मा अपने विवेक, सूझ-बूझ व सत्कार्यों से सार्थक जीवन जी कर अन्य लोगों के लिए रोल मॉडल बन सकता है और अपना भविष्य और परलोक दोनों सुधार सकता है। लेकिन सभी कार्य सुचारू रूप से निभाने के लिए शरीर को स्वस्थ और मन को प्रफुल्लित रखना होगा। तन व्याधिग्रस्त हो या मस्तिष्क तनावग्रस्त हो तो ध्यान, पूजा-अर्चना भी भलीभांति और मनोयोग से नहीं होगी। इन्हें फलदायी बनाने के लिए शारीरिक स्फूर्ति और मानसिक एकाग्रता, समर्पित भाव और ग्राही मुद्रा आवश्यक हैं। दूसरी बात, मन और शरीर एक दूसरे पर पूर्ण रूप से निर्भर हैं। एक के अस्वस्थ रहने पर दूसरा स्वस्थ नहीं रह सकता। प्रबंधशास्त्र में पिछले तीन दशकों से लोकप्रिय न्यूरो लिंग्विस्टिक प्रोग्रामिंग की भी आधारभूत मान्यता है कि शरीर और मन एक ही अस्मिता के दो पाट हैं। किसी वस्तु की अनुपस्थिति में उसकी अहमियत का विशेष अहसास होता है। जैसे पतझड़ में भूमि पर गिरे पुष्प-पत्तों को देख कर तनिक मलाल होता है कि एक समय ये पेड़ कितने सुंदर थे। किसी चिकित्सक ने बहुत सुंदर सी बात कही है – अच्छे स्वास्थ्य की भूमिका का अहसास हमें तब होता है जब कोई बीमारी हमारे पीछे लग जाती है …।

पूज्य “आचार्यश्री” जी ने कहा – समस्त चराचर जगत एक सुन्दर सामंजस्य के सिद्धांत पर टिका है। दैनंदिन जीवन में स्वास्थ्य के प्रति ढिलाई न बरती जाए, इस उद्देश्य से शारीरिक देखरेख को धार्मिक दायित्व से जोड़ दिया गया है – “शरीरम् हि धर्म खलु साधनम् …”। यानी शरीर अभीष्ट और आध्यात्मिक लक्ष्य हासिल करने का साधन या वाहक भर है। इस कर्तव्य की अनदेखी से हमारे अन्य कार्य भी सुचारू रूप से नहीं होंगे। स्वास्थ्य ठीक न रहने पर समस्त संपत्ति धन-दौलत, ज्ञान, कौशल, समझदारी धरी की धरी रह जाती है। आध्यात्मिक रूप से सुदृढ़ और स्वस्थ व्यक्ति को ईश्वरीय शक्ति का संबल निरंतर उपलब्ध रहता है। इसीलिए वह ऐसा अलौकिक कार्य निष्पादित करने में समर्थ होता है जिन्हें साधारण बुद्धि नहीं समझ सकती। शरीर नश्वर है, कालांतर में इसका क्षरण होना निश्चित है। मनुष्य का असल स्वरूप शुद्ध आत्मा है, जो उसे परमात्मा से निरंतर जोड़े रहती है, जिसके हम अभिन्न अंश हैं। सृष्टि के आरम्भ में सभी वस्तुओं का स्वरूप शुद्ध आध्यात्मिक था। संसार में जो भी भासित है, कल्पित है, विद्यमान है उसके अमूर्त मॉडल पहले से आध्यात्मिक लोक में विद्यमान बताए गए हैं। अनन्त क्षेत्र में व्यापक ब्रह्मांड ही हमारा स्थायी ठिकाना है, जहाँ हम मानसिक स्तर पर विचरण करते हैं, वर्गफुट तक परिसीमित फ्लैट में नहीं। आकलन यह करना होगा कि उस मानसिक ड्राइंग रूम को हम कितना सुसज्जित और विद्वेष भावों से मुक्त रखते हैं …।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,929FansLike
2,754FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles